ईश्वर अस्तित्व पर चुनौतीपूर्ण लेख Open Challenge Article on existence of God in Hindi

kya ishwar hai essay,ishwar ek hai in hindi ,kya bhagwan hai ya nahi,ishwar ke baare mein jankari,what is god in hindi,ishwar god,kya ,bhagwan hote hai ya nahi,bhagwan kya chahta hai,kya ishwar hai essay in hindi,bhagwan se kaise mile,tu hai ya nahi bhagwan,asli bhagwan kaun hai,bhagwan ko kisne banaya,yeh to sach hai ki bhagwan hai,ishwar ek hai in hindi,ishwar hai ya ishwar nahi hai,bhagwan kaun hai hindi me,bhagwan kya chahta hai,information about god in hindi,science vs god in hindi,bhagvan kya hai hindi,ishwar ek hai nibandh,ishwar in hindi,god in hindi bhagvan ,truth is god in hindi,bhagwan se kaise mile ,vigyan aur bhagwan ,bhagwan ka astitva in hindi,how to see god in hindi,information about god in hindi,kya bhagwan hai in hindi,asli bhagwan kaun hai,sabse bada bhagwan kaun hai,ईश्वर का स्वरूप,ईश्वर एक है,ईश्वर कौन है,ईश्वर के गुण,क्या ईश्वर सत्य है,ईश्वर और भगवान में अंतर,भगवान वास्तव में मौजूद है,भगवान नहीं है,क्या किसी ने भगवान को देखा है,भगवान को क्यों मानते हैं,ईश्वर होने का प्रमाण,भगवान कहाँ मिलेंगे,भगवान के होने के प्रमाण,क्या वैज्ञानिक भगवान को मानते है,भगवान वास्तव में मौजूद है,भगवान होने के सबूत,भगवान का अस्तित्व है,भगवान नहीं होता

हमने अपनी website पर ईश्वर के अस्तित्व सम्बंधित अनेकों लेख लिखे हैं जिन्हे आप पढ़ सकते हैं |

लेकिन इस विषय पर हम अनेकों तर्कों से ईश्वर का अस्तित्व पर लेख लिख सकते हैं इसलिए आपके सामने एक नया लेख लेकर आये हैं जिसमे विशुद्ध तर्क के आश्रय से हम पता करेंगे की ईश्वर का अस्तित्व हैं या नहीं ?

इस विषय पर आप हमारे अन्य लेख Website पर पढ़ सकते हैं

ईश्वर का अस्तित्व हैं या नहीं ?

ईश्वर हैं या नहीं,kya ishwar hai essay,ishwar ek hai in hindi ,kya bhagwan hai ya nahi,ishwar ke baare mein jankari,what is god in hindi,ishwar god,kya ,bhagwan hote hai ya nahi,bhagwan kya chahta hai,kya ishwar hai essay in hindi,bhagwan se kaise mile,tu hai ya nahi bhagwan,asli bhagwan kaun hai,bhagwan ko kisne banaya,yeh to sach hai ki bhagwan hai,ishwar ek hai in hindi,ishwar hai ya ishwar nahi hai,bhagwan kaun hai hindi me,bhagwan kya chahta hai,information about god in hindi,science vs god in hindi,bhagvan kya hai hindi,ishwar ek hai nibandh,ishwar in hindi,god in hindi bhagvan ,truth is god in hindi,bhagwan se kaise mile ,vigyan aur bhagwan ,bhagwan ka astitva in hindi,how to see god in hindi,information about god in hindi,kya bhagwan hai in hindi,asli bhagwan kaun hai,sabse bada bhagwan kaun hai,ईश्वर का स्वरूप,ईश्वर एक है,ईश्वर कौन है,ईश्वर के गुण,क्या ईश्वर सत्य है,ईश्वर और भगवान में अंतर,भगवान वास्तव में मौजूद है,भगवान नहीं है,क्या किसी ने भगवान को देखा है,भगवान को क्यों मानते हैं,ईश्वर होने का प्रमाण,भगवान कहाँ मिलेंगे,भगवान के होने के प्रमाण,क्या वैज्ञानिक भगवान को मानते है,भगवान वास्तव में मौजूद है,भगवान होने के सबूत,भगवान का अस्तित्व है,भगवान नहीं होता

इस ब्रम्हांड को किसी के बनाया हैं या यह अपने आप बना हैं |

इस विषय पर अनेकों वर्षों से लोग आपस में लड़ते आये हैं

अच्छा होता की लड़ने की वे ज्ञानयुद्ध करते यानि की आपस में प्रेम पूर्वक शास्त्रार्थ करते तो किसी एक मत तक पहुँच पाते

हमारे प्राचीन भारत देश में किसी भी विषय पर सत्य का निर्णय करने के लिए आपस में शास्त्रार्थ किया जाता था जिसका उद्देश्य सत्य और असत्य का निर्णय करना होता हैं |

जिसका उद्देश्य हार और जीत न होकर सत्य को जानना होता था इसीलिए 5000 वर्षों से पूर्व सम्पूर्ण विषय में ईश्वर विषय का झगड़ा नहीं था |

तो आइये आज हम भारत देश की प्राचीन शास्त्रार्थ प्रणाली से ईश्वर की छानबीन करते हैं

अन्य लेख देखें –

ईश्वर का अस्तित्व हैं या नहीं

आस्तिक और नास्तिक के बीच बहस 

प्राचीन शास्त्रार्थ प्रणाली से ईश्वर की खोज

महर्षि गौतम ने अपने न्याय दर्शन में किसी सिद्धांत के निरूपण यानि सिद्धि के उपाय के लिए पांच अवयव बताये हैं

यहाँ हम उन पांच उपायों से ईश्वर अस्तित्व पर खोज करते हैं

  1. प्रतिज्ञा – गति अनित्य हैं यानि की गति हमेशा के लिए नहीं रहती कभी न कभी नष्ट होती हैं |
  2. हेतु – इस प्रतिज्ञा की सिद्धि के लिए हेतु यानि कारण बताते हैं – क्यों की हम गति को उत्पन्न व् नष्ट होते देखते हैं |
  3. उदाहरण – जैसे लोक में जड़ पदार्थों व् चेतन प्राणियों द्वारा नाना प्रकार की गतियों का उत्पन्न व नियंत्रित होना देखते हैं |
  4. उपनय – उसी प्रकार अन्य प्रकार की गतियां भी अनित्य हैं |
  5. निगमन – सभी दृष्ट व अदृष्ट(न दिखने वाली) गतियां अनित्य हैं |

यहाँ गति की अनित्यता सिद्ध होती हैं , अब हम इसी प्रकार गति के पीछे चेतन कर्त्ता के होने पर खोज करते हैं |



गति का कारण ईश्वर हैं या नहीं ?

ईश्वर हैं या नहीं,kya ishwar hai essay,ishwar ek hai in hindi ,kya bhagwan hai ya nahi,ishwar ke baare mein jankari,what is god in hindi,ishwar god,kya ,bhagwan hote hai ya nahi,bhagwan kya chahta hai,kya ishwar hai essay in hindi,bhagwan se kaise mile,tu hai ya nahi bhagwan,asli bhagwan kaun hai,bhagwan ko kisne banaya,yeh to sach hai ki bhagwan hai,ishwar ek hai in hindi,ishwar hai ya ishwar nahi hai,bhagwan kaun hai hindi me,bhagwan kya chahta hai,information about god in hindi,science vs god in hindi,bhagvan kya hai hindi,ishwar ek hai nibandh,ishwar in hindi,god in hindi bhagvan ,truth is god in hindi,bhagwan se kaise mile ,vigyan aur bhagwan ,bhagwan ka astitva in hindi,how to see god in hindi,information about god in hindi,kya bhagwan hai in hindi,asli bhagwan kaun hai,sabse bada bhagwan kaun hai,ईश्वर का स्वरूप,ईश्वर एक है,ईश्वर कौन है,ईश्वर के गुण,क्या ईश्वर सत्य है,ईश्वर और भगवान में अंतर,भगवान वास्तव में मौजूद है,भगवान नहीं है,क्या किसी ने भगवान को देखा है,भगवान को क्यों मानते हैं,ईश्वर होने का प्रमाण,भगवान कहाँ मिलेंगे,भगवान के होने के प्रमाण,क्या वैज्ञानिक भगवान को मानते है,भगवान वास्तव में मौजूद है,भगवान होने के सबूत,भगवान का अस्तित्व है,भगवान नहीं होता

किसी भी प्रकार की गति अनित्य होती हैं अब यह जानना चाहिए क्या गति के पीछे चेतन होता हैं या नहीं ? क्या जड़ वास्तु गति का कारण हो सकती हैं ? आइये देखते हैं |

  1. प्रतिज्ञा – गति मूलतः चेतन के बल द्वारा उत्पन्न व नियंत्रित होती हैं |
  2. हेतु – हम जगत में विभिन्न गतियों को विभिन्न चेतन प्राणियों द्वारा उत्पन्न व नियंत्रित होना देखते हैं |
  3. उदाहरण – जैसे हम स्वयं नाना गतियों को उत्पन्न व नियंत्रित करते हैं |
  4. उपनय – उसी प्रकार अन्य गतियाँ, जिनका कोई प्रेरक व नियंत्रक साक्षात दिखाई नहीं देता , वे भी किसी अदृष्ट चेतन तत्व द्वारा नियंत्रित व प्रेरित होती हैं |
  5. निगमन – सभी प्रकार की गतियों को उत्पन्न , प्रेरित व नियंत्रित करने वाला कोई न कोई चेतन तत्व अवश्य होता हैं अर्थात बिना चेतन के गति उत्पन्न, नियंत्रित व संचालित नहीं हो सकती |

बल का कारण ईश्वर हैं या नहीं ?

ईश्वर हैं या नहीं,kya ishwar hai essay,ishwar ek hai in hindi ,kya bhagwan hai ya nahi,ishwar ke baare mein jankari,what is god in hindi,ishwar god,kya ,bhagwan hote hai ya nahi,bhagwan kya chahta hai,kya ishwar hai essay in hindi,bhagwan se kaise mile,tu hai ya nahi bhagwan,asli bhagwan kaun hai,bhagwan ko kisne banaya,yeh to sach hai ki bhagwan hai,ishwar ek hai in hindi,ishwar hai ya ishwar nahi hai,bhagwan kaun hai hindi me,bhagwan kya chahta hai,information about god in hindi,science vs god in hindi,bhagvan kya hai hindi,ishwar ek hai nibandh,ishwar in hindi,god in hindi bhagvan ,truth is god in hindi,bhagwan se kaise mile ,vigyan aur bhagwan ,bhagwan ka astitva in hindi,how to see god in hindi,information about god in hindi,kya bhagwan hai in hindi,asli bhagwan kaun hai,sabse bada bhagwan kaun hai,ईश्वर का स्वरूप,ईश्वर एक है,ईश्वर कौन है,ईश्वर के गुण,क्या ईश्वर सत्य है,ईश्वर और भगवान में अंतर,भगवान वास्तव में मौजूद है,भगवान नहीं है,क्या किसी ने भगवान को देखा है,भगवान को क्यों मानते हैं,ईश्वर होने का प्रमाण,भगवान कहाँ मिलेंगे,भगवान के होने के प्रमाण,क्या वैज्ञानिक भगवान को मानते है,भगवान वास्तव में मौजूद है,भगवान होने के सबूत,भगवान का अस्तित्व है,भगवान नहीं होता

किसी भी वस्तु की गति के पीछे बल होता हैं , पहले बल होता हैं तभी गति होती हैं |

बल पहले नंबर पर हैं और गति दूसरे नंबर हैं इसलिए ये जानना चाहिए की बल का कारण क्या हैं ?

यूं तो विज्ञान के अनुसार बल भी अनेकों प्रकार के हैं और मूल बल 4 हैं लेकिन ये सभी बल कैसे कार्य करते हैं , यह कोई भी वैज्ञानिक नहीं जानता |



बल के विषय में यदि किसी वैज्ञानिक ने संसार को कुछ दिया हैं तो वे हैं Richard P Feynman लेकिन वे खुद मानते हैं की हम बल को आज तक पूरी तरह से नहीं जान पाएं हैं और शायद ही जान पाएं , इसीलिए Feynman कहते हैं

If you insist upon a precise definition of force, you will never get it – lectures on physics

किसी भी बल के कार्य करने की एक process होती हैं उस process में भी अनेकों प्रकार की गतियां होती हैं और जैसा की हमने कहा कि गति का कारण बल हैं |

इसलिए मूल बल क्या हैं ? और मूल बल का कारण कौन हैं यह जानना चाहिए |

आइये न्याय दर्शन के अनुसार हम देखते हैं कि बल का कारण कौन हैं

  1. प्रतिज्ञा – प्रत्येक बल के पीछे चेतन तत्व की भूमिका हैं |
  2. हेतु – क्यों कि हम चेतन प्राणियों में बल का होना देखते हैं |
  3. उदाहरण – जैसे लोक में हम नाना क्रियाओं में अपने बल का उपयोग करते हैं |
  4. उपनय – उसी प्रकार सृष्टि में जो विभिन्न प्रकार के बल देखे जाते हैं , उन सबमे किसी अदृष्ट चेतन तत्व कि भूमिका होती हैं |
  5. निगमन – प्रत्येक बल के पीछे किसी न किसी चेतन (ईश्वर अथवा जीव) कि मूल भूमिका अवश्य होती हैं किंवा वह बल उस चेतन का ही होता हैं | जड़ पदार्थ में अपना कोई बल नहीं होता |

इस तरह मूल बल चेतन का होता हैं जिस से सृष्टि में विभिन्न प्रकार के बल आपस में सामंजस्य स्थापित करके कार्य करते हैं , इसलिए बल का कारण ईश्वर हैं |

सृष्टि में हम विविध रचनाएँ देखते हैं इन रचनाओं के पीछे कोई बुद्धि काम करती हैं व नहीं इस भी जानना जरुरी हैं |

आइये अब हम बुद्धि पर विचार करते हैं |

बुद्धिपूर्वक कार्यों के पीछे ईश्वर हैं या नहीं ?

ईश्वर हैं या नहीं,kya ishwar hai essay,ishwar ek hai in hindi ,kya bhagwan hai ya nahi,ishwar ke baare mein jankari,what is god in hindi,ishwar god,kya ,bhagwan hote hai ya nahi,bhagwan kya chahta hai,kya ishwar hai essay in hindi,bhagwan se kaise mile,tu hai ya nahi bhagwan,asli bhagwan kaun hai,bhagwan ko kisne banaya,yeh to sach hai ki bhagwan hai,ishwar ek hai in hindi,ishwar hai ya ishwar nahi hai,bhagwan kaun hai hindi me,bhagwan kya chahta hai,information about god in hindi,science vs god in hindi,bhagvan kya hai hindi,ishwar ek hai nibandh,ishwar in hindi,god in hindi bhagvan ,truth is god in hindi,bhagwan se kaise mile ,vigyan aur bhagwan ,bhagwan ka astitva in hindi,how to see god in hindi,information about god in hindi,kya bhagwan hai in hindi,asli bhagwan kaun hai,sabse bada bhagwan kaun hai,ईश्वर का स्वरूप,ईश्वर एक है,ईश्वर कौन है,ईश्वर के गुण,क्या ईश्वर सत्य है,ईश्वर और भगवान में अंतर,भगवान वास्तव में मौजूद है,भगवान नहीं है,क्या किसी ने भगवान को देखा है,भगवान को क्यों मानते हैं,ईश्वर होने का प्रमाण,भगवान कहाँ मिलेंगे,भगवान के होने के प्रमाण,क्या वैज्ञानिक भगवान को मानते है,भगवान वास्तव में मौजूद है,भगवान होने के सबूत,भगवान का अस्तित्व है,भगवान नहीं होता

मनुष्य एक ऐसा प्राणी हैं जो अन्य प्राणियों कि अपेक्षा श्रेष्ट हैं क्यों कि उसमे बुद्धि हैं और उसके प्रत्येक कार्य बुद्धि से ही सम्पादित होते हैं |

इसीलिए बुद्धिजन्य कार्यों के पीछे चेतन का होना मानना चाहिए |

सृष्टि में भी व्यवस्था नजर आती हैं इसलिए इसके पीछे कोई बुद्धिमान व्यवस्थापक हैं या नहीं |



आइये हम इसे न्याय दर्शन कि नजर से देखते हैं |

  1. प्रतिज्ञा – प्रत्येक बुद्धिगम्य, व्यवस्थित रचना के पीछे चेतन तत्व कि भूमिका होती हैं |
  2. हेतु – क्यों कि हम चेतन प्राणियों द्वारा बुद्धिगम्य कार्य करते हुए देखते हैं |
  3. उदाहरण- जैसे हम अपनी बुद्धि के द्वारा नाना प्रकार के कार्यों को सिद्ध करते हैं |
  4. उपनय – उसी प्रकार सृष्टि में विभिन्न बुद्धिगम्य किंवा सम्पूर्ण सृष्टि कि प्रत्येक क्रिया के पीछे चेतन तत्व कि अनिवार्य भूमिका होती हैं |
  5. सभी प्रकार कि बुद्धिगम्य रचनाओं किंवा सपूर्ण सृष्टि की प्रत्येक क्रिया के पीछे चेतन तत्व कि अनिवार्य भूमिका अवश्य होती हैं |

इस तरह बुद्धि बल और गति के पीछे चेतन तत्व ही मूल कारण होता हैं , सृष्टि में सर्वत्र महान , बुद्धि , महान बल और महान गति दिखाई देती हैं जिसके पीछे एक महान चेतन सत्ता अवश्य हैं ऐसा सिद्ध होता हैं , वही चेतन सत्ता ईश्वर हैं |

नोट – न्याय दर्शन की प्रक्रिया से इस तरह ईश्वर की सिद्धि वैदक वैज्ञानिक आचार्य अग्निव्रत नैष्ठिक जी ने अपने ग्रन्थ वेद विज्ञान आलोक में की हैं , इस ग्रन्थ का मुख्य विषय भौतिक विज्ञान हैं जिसमे ब्रम्हांड की एक नयी थ्योरी Vedic Rashmi Theory दी गयी हैं |

यह भी पढ़ें

Vedic Rashmi Theory of Universe in hindi

निवेदन

इस लेख को अधिक से अधिक whats-app पर शेयर करें , लेख के लिंक को copy करें और whatsapp आदि social मीडिया पर शेयर करें |

Summary
User Rating
5 based on 1 votes
Service Type
NA
Provider Name
NA,
NA, Telephone No.NA
Area
NA

Related Post

1 Trackback / Pingback

  1. भगवान क्या क्यों कैसे किधर - सभी सवालों के जवाब All information about god in hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*


error: Content is protected !!