NASA के Experiment में मिली सूर्य से संस्कृत भाषा

om sound from sun,om sound from sun nasa, surya se om ki dhvani, om sound from sun

आपने कई बार सुना होगा की NASA ने सूर्य से ॐ की ध्वनि सुनी |

इस से related videos आपने YouTube पर देखे होंगे |

लेकिन कहीं पर भी इसका कोई Proof नहीं दिया जाता है |

वहीँ पर NASA ने अपनी official website में सूर्य से निकलने वाली ध्वनि दी है |

उस ध्वनि को सुनने पर यह नहीं लगेगा की यह ॐ की ध्वनि है |

लेकिन फिर भी हम आपको NASA की वो ख़ुफ़िया सच्चाई बताएँगे जो आज तक आपने कभी सुनी नहीं होगी |

यह सच्चाई नासा के वैज्ञानिक  professor omprakash pandey जी ने बताई है |

हम अपनी बात का Proof भी देंगे |

इसलिए इस लेख को आप पूरा पढ़े और अधिक से अधिक share भी करे |

राज जिसे NASA छुपाता है

om sound from sun,om sound from sun,om sound from sun by NASA,NASA discovered om sound from sun ,Om sound from sun recorded by NASA,Om around Sun,Audio of sun ,Voice of sun ,Sound of universe,Sun chants om ,Sound of sun om,Om sound of universe ,is om the sound of the universe

नासा द्वारा किये गए एक Experiment  दो बातें पता चली जिसे NASA ने कभी Officially Declare नहीं किया , उस Experiment के 2 result निकले

  • सूर्य से निकलने वाले Photon से संस्कृत के सात स्वर निकलते हैं |
  • पृथ्वी से निकलने वाली ध्वनि से संस्कृत के व्यंजन निकलते हैं |

जब ये Experiment किया गया तो इसके Result को देखते ही वैज्ञानिक चौंक गए , लेकिन नासा ने इस बात को कभी भी Officially Declare नहीं किया |

इस Experiment के बारे में हमें कैसे पता चला ?

NASA के इस Experiment में भारतीय वैज्ञानिक Professor O.P. Pandey जी भी थे |

उन्होंने ही इस बात को भारत में आने के बाद अनेकों जगह अपने lectures में बताया |

आप उनके lecture को YouTube में सुन सकते है |

Professor Omprakash Pandey जी ने ही बताया कि NASA ने कभी इस बात को officially Declare नहीं किया |

आखिर क्या था वो Experiment ?

om sound from sun nasa, surya se om ki dhvani, om sound from sun,om sound from sun,om sound from sun by NASA,NASA discovered om sound from sun ,Om sound from sun recorded by NASA,Om around Sun,Audio of sun ,Voice of sun ,Sound of universe,Sun chants om ,Sound of sun om,Om sound of universe ,is om the sound of the universe

हमारे ब्रम्हांड में हर जगह गति है , ऐसी कोई भी जगह नहीं कि जहाँ गति न हो , और जहाँ भी गति होती है वहां उस गति से sound भी पैदा होता है |
नासा ने अपने एक्सपेरिमेंट में सूर्य से निकलने वाले photons से निकलने वाली ध्वनि को सुनना चाहा |

जब NASA ने इस ध्वनि को Detect किया तब वो ध्वनि काफी सूक्ष्म थी , जिसे सुनना possible नहीं था |

इसलिए वैज्ञानिकों ने इस ध्वनि को million times amplify किया , इतना amplify करने के बाद भी वे इसे 18 decibel तक नहीं ला पाए , लेकिन फिर उन्होंने इसे सुना , और photon यानि प्रकाश से निकलने वाली ध्वनि में संस्कृत के सात स्वर सुनाई दिए |

ध्यान रहे कि सूर्य की रश्मियां भी 7 होती है और उस प्रकाश के सात रश्मियों से ही 7 अलग अलग वर्णों की ध्वनि निकलती है , ये सात वर्ण ही संस्कृत के स्वर है |

इसी तरह नासा ने पृथ्वी से निकलने वाली ध्वनि को सुना तो वो ध्वनि थी संस्कृत के व्यंजन यानि क, त, च, प आदि |

vacuum space में sound कैसे ?

कोई व्यक्ति यह प्रश्न भी पूछ सकता है कि vacuum में sound पैदा ही नहीं हो सकता तो फिर सूर्य से निकलने वाली ध्वनि कैसे सुनी गयी ?

क्यों कि sound को पैदा होने के लिए कोई न कोई माध्यम कि जरूरत होती है , बिना माध्यम के sound कैसे पैदा हुआ ?

ऐसा प्रश्न उठना स्वाभाविक है लेकिन हमारे पुरे ब्रम्हांड में कहीं भी पूरी तरह vacuum space नहीं है |

ब्रम्हांड में planets के बीच के space में जो matter भरा रहता है उसे interplanetary plasma कहते हैं |

galaxies के बीच में जो matter होता है उसे intergalactic plasma कहा जाता है |

इस तरह ब्रम्हांड में कहीं भी full vacuum नहीं है |

इतना ही नहीं बल्कि कहीं भी vacuum पैदा होगा तो वो भी कुछ समय बाद matter से भर जायेगा क्यों कि विज्ञान का ये नियम है कि matter अधिक pressure से low pressure zone में flow हो जाता है |

इसलिए जहाँ Vacuum Create भी होगा वहां दूसरी तरफ से matter flow होकर भर जायेगा |

इसके आलावा वैदिक physics के अनुसार हमारे ब्रम्हांड में matter कि सबसे सूक्ष्म अवस्था प्रकृति हर जगह व्याप्त रहती है , यानि प्रकृति पूरे ब्रम्हांड में हर जगह फैली हुयी है |

इसलिए ग्रह , नक्षत्रों कि गति से ब्रम्हांड में ध्वनि भी उत्पन्न होती है |

वेदों में वाणी के चार प्रकार

om sound from sun nasa, surya se om ki dhvani, om sound from sun,om sound from sun,om sound from sun by NASA,NASA discovered om sound from sun ,Om sound from sun recorded by NASA,Om around Sun,Audio of sun ,Voice of sun ,Sound of universe,Sun chants om ,Sound of sun om,Om sound of universe ,is om the sound of the universe

वेदों के अनुसार वाणी के चार प्रकार होते है यानि कि ध्वनि चार प्रकार की Form में Exist करती है |

ये 4 प्रकार निम्न है

  1. परा
  2. पश्यन्ति
  3. मध्यमा
  4. वैखरी

वैखरी

जो ध्वनि की अवस्था किसी व्यक्ति या sound source से चलकर हमारे कण के पर्दे तक रहती है उसे वैखरी वाणी कहते हैं |

मध्यमा

कान के पर्दे से मस्तिष्क तक ध्वनि की अवस्था बदल जाती है , इस ध्वनि की अवस्था को ही मध्यमा कहते हैं , यह वाणी वैखरी से सूक्ष्म होती है |

पश्यन्ति

मस्तिष्क से चलकर हमारा मनस्तत्व तक जो ध्वनि की अवस्था रहती है उसे पश्यन्ति अवस्था कहते हैं , यह ध्वनि की अवस्था मध्यमा से सूक्ष्म और परा से स्थूल होती है |

परा

ध्वनि की अवस्था जो मनस्तत्व से चलकर हमारी आत्मा तक पहुँचती है उसे पारा वाणी कहते है |

यह ध्वनि की सबसे सूक्ष्म अवस्था कहलाती है , कोई उच्च स्तर का योगी ही इस वाणी को सुन सकता है |

Modern science कभी भी किसी भी Technology से इस ध्वनि को नहीं सुन सकता |

ध्वनि की वो अवस्था जिसे modern science किसी technology से जान सकता है , वो ध्वनि की अवस्था मध्यमा और पश्यन्ति अवस्था कहलाती है |

वैज्ञानिकों ने सूर्य से निकलने वाले स्वर की ध्वनि को मध्यमा अवस्था में detect किया और उसे amplify करके सुना |

इस तरह हमने विज्ञान की सृष्टि से इस विषय को स्पष्ट किया है , और ये बात तर्कयुक्त सिद्ध होती है कि सूर्य से संस्कृत के स्वर निकलते हैं , और संस्कृत ब्रम्हांड की भाषा सिद्ध होती है |

वैदिक शास्त्रों में इसका जिक्र

Professor Omprakash Pandey जी ने बताया की जिस बात को NASA ने Experimentally पता किया वह बात यजुर्वेद के शतपथ ब्राम्हण ग्रन्थ में उन्हें मिली , जब उन्होंने इस सूत्र को देखा

स्वरर देवा इति सूर्यः

इसका सामान्य अर्थ निकलता है स्वर को देने वाला है इसलिए इसका नाम सूर्य है |

वहीँ हमारे शास्त्रों में पृथ्वी को व्यंजनात्मक भी कहा गया है |

Read More- Vedic Rashmi Theory of Universe

Vedic Rashmi Theory explained in Hindi

NASA में संस्कृत का इस्तेमाल क्यों होता है

संस्कृत ब्रम्हांड कि भाषा है इसलिए NASA में प्रत्येक वैज्ञानिक सबसे पहले संस्कृत की Training लेता है |

संस्कृत भाषा की यह भी विशेषता है कि संस्कृत में कोई भी कही गयी बात को आप उल्टा कर दे तब भी उसका मतलब नहीं बदलता है |

क्यों कि जब space में कोई भी signal भेजा जाता है तो वो signal reverse हो जाता है |

इसलिए वैज्ञानिक संस्कृत का प्रयोग करते हैं क्यों कि संस्कृत में यदि हमारी information के signal reverse हो जाएँ तब भी उसका meaning same ही रहेगा |

संस्कृत के स्वर और व्यंजन सूर्य और पृथ्वी की ही ध्वनि है संस्कृत की इस वैज्ञानिकता के कारण भी नासा में संस्कृत का इस्तेमाल होता है |

आज Astronomical time की calculation के लिए भी नासा में हमारे प्राचीन शास्त्र सूर्य सिद्धांत का प्रयोग किया जाता है |

Om Sound from sun

om sound from sun nasa, surya se om ki dhvani, om sound from sun,om sound from sun,om sound from sun by NASA,NASA discovered om sound from sun ,Om sound from sun recorded by NASA,Om around Sun,Audio of sun ,Voice of sun ,Sound of universe,Sun chants om ,Sound of sun om,Om sound of universe ,is om the sound of the universe

अब हम बात करते हैं की सूर्य से ॐ की ध्वनि आती है या नहीं ?

जितने लोग भी कहते हैं की नासा ने सूर्य से ॐ की ध्वनि सुनी वो कभी भी इसका कोई proof नहीं देते |

ऐसे में बिना Proof के हम नहीं कह सकते की नासा ने ऐसा कुछ खोजा भी है या नहीं

लेकिन सूर्य से ॐ की ध्वनि अवश्य आती है

इसे हम वैदिक physics के अनुसार कह रहे हैं |

सिर्फ सूर्य ही नहीं ॐ की ध्वनि सम्पूर्ण ब्रम्हांड में हर जगह विद्यमान है |

ये ध्वनि वाणी की सूक्ष्म अवस्था परा , पश्यन्ति और मध्यमा में विद्यमान है |

Vedic Rashmi Theory के अनुसार ब्रम्हांड के निर्माण होते वक्त काफी समय बाद ध्वनि का गुण उत्पन्न होता है |

जब पंचमहाभूत में से सबसे पहले आकाश तत्व का निर्माण होता है तब शब्द गुण की भी उत्पत्ति होती है |

इस ॐ की ध्वनि का माध्यम यह आकाश तत्व हो सकता है |

Conclusion

हम इस लेख में यह दावा नहीं करते कि वास्तव में इस experiment में यही result निकला हो , हमने सिर्फ एक भारतीय वैज्ञानिक के विचार आप तक पहुंचाए है और इसे वैदिक वाणी विज्ञान से जोड़कर प्रस्तुत किया है , हमारा उद्देश्य आप तक यह information पहुँचाना था , अब सच्चाई क्या है यह एक विचारणीय बात है |

Our Request

यदि इस article को पढ़ने के बाद आपको ये Information काफी unique , interesting और भारतीय गर्व को बढ़ने वाली लगी हो तो इस आर्टिकल को Whats-app , Facebook जैसे Social media platforms पर अधिक से अधिक Share जरूर करें |
कृपया हमारे article को कहीं भी Copy Paste न करें, अन्यथा इसके लिए उचित कार्यवाही की जा सकती है , आर्टिकल के link को copy करके आप इसे कहीं भी शेयर कर सकते हैं |

Summary
NA
Service Type
NA
Provider Name
NA,
NA, Telephone No.NA
Area
NA

Related Post

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*


error: Content is protected !!